Pages

Wednesday, January 21, 2009

What is love from my point of view…….


Love सुनने मै काफी फिल्मी………..ओर करने मैं भी………..लेकिन जब निभाने कि बात आती है तो……life काफी सारे रंग दिखाती हैं, कभी खुशी कभी गम……..क्या करें फिर भी कुछ कुछ होता ही रहता है……..ओर यह एहसास दिखता भी है, कभी नम गिली आँखो से ओर कभी शर्म से छुकती बन्द आँखो से………..
मेरे लिए love शब्द dating and disco or having lunch together से थोडा हटके है………..तो आखिर love है क्या मेरे लिए………..
Love……….. अगर एक परेशान है तो दुसरे को उसकी कमी ओर कमजोरी बता के ओर ज्यादा tension देने कि जगह बस एक बार प्यार हाथ मे हाथ लेके उसकी आँखो मैं देखते हुए बोल दो ………hey don’t worry yaar it’s happen, I love you and I am with you always.
Love…………एक दुसरे से gifts लेने कि जगह एक बार प्यार से hug करके पता करना are you ok dear.
Love………..एक दुसरे से लडने कि जगह एक बार शान्ति से बैठ के यह पता करना कि झगडे कि वजह क्या है।
Love………. काम काम ओर काम……..कही शायद काम कि वजह से कोई कही मेरा इन्तजार तो नही कर रहा, कही मैं अपने काम कि वजह से अपने dear one को समय दु:ख तो नही दे रहा।
Love……… अपनी ही tension को बडा समझके दुसरे को बातो ही बातो मैं निचा दिखाने कि जगह कभी उसकी भी परेशानी समझने कि कोशिश करना।
पर सबसे बडी ओर important बात या यो प्यार ना करो ओर अगर करो तो पूरे दिल से उसका साथ देके इसे निभाओ। तभी तो बडे बडे कह गए प्यार करना आसान है, पर उस प्यार को निभाना उतना ही मुसकिल।
So if you’re in love then think कही कुछ कमी तो नही रह गई। good luck.

2 comments:

उजेली said...

same feelings here !!!!

MADAN said...

Ha Ha Ha...

ramailo kurooo..

Feelings ramro6....

Is Baat ko KOI Nibha kar to dekhe..!


Any way i have no idea on such matters hai...

HA HA HA HA

Blogger news

Custom Search